शुक्रवार, 2 मई 2014

ब्लॉगिंग के पांच वर्ष पूर्ण होने की बधाई तो देंगे न .........

आज फेसबुक पर   शिखा  का चिंतन जारी है कि फेसबुक  परदेस की धरती से अपने देशवासियों से जुड़े होने का एक अच्छा उपयोगी माध्यम है , कुछ बुराइयां होने के बावजूद भी . अभिव्यक्ति के अनेकानेक माध्यमों में यह बहस चलती ही रहती है कि सोशल साईट्स उपयोगी है या जंजाल . मनन चिंतन और विमर्श के प्रत्येक दौर के बाद निष्कर्ष यही निकलता है कि यह अभिव्यक्ति एक सरल सहज माध्यम है . 
एक क्लिक पर एक गाँव जैसे स्पंदित होती दुनिया यहाँ सिमटी है जैसे  , सुदूर देशों से लेकर अपने देश के कोने कोने में जुटने वाली चौपालों जैसे ही .अपनों से मिलने जुलने , नए मित्रों से जान पहचान और सबसे अधिक अपनी बेलग बेलौस अभिव्यक्ति को एक स्वतंत्र मंच मिलता है . विभिन्न विषयों पर सहमति/असहमति भी होती है . 
अपने विचारों को मांजते दिमाग खुलता है ,विचारों में परिपक्वता आती है , वाक्/लेखन कौशल परिमार्जित होता नए लेखकों को प्रोत्साहित करता है , उनके करीअर को भी नई संभावनाएं देता है . आज ही मुकेश को लेखन की बदौलत आमदनी भी हुई . अपनी अभिव्यक्ति की आत्मसंतुष्टि के लिए हिंदी ब्लॉगिंग में  मददगार भी कम नहीं जो बिना मांगे भी बिना शर्त भी  जो रचनात्मकता और  तकनीक में सहयोग करते हैं . 
कई  बार तीखी बहसें , रिश्ते बिगाडती हैं , शत्रुता निभाने के लिए इस मंच का दुरूपयोग भी होता है, इसमें शक नहीं , मगर सामाजिक जीवन में भी यदा-कदा ऐसे माहौल के बीच सबको रहना ही पड़ता है , रिश्तों को निभाना भी होता है .
यद्यपि सोशल नेटवर्क के कारण हिंदी ब्लॉगिंग की गति में एक ठहराव या सुस्ती है.  मैं मानती हूँ कि सोशल नेटवर्क आपके विचारों को संकलित करने में सहायक है परन्तु विचारों का विस्तार में प्रकटीकरण ब्लॉगिंग में ही  बेहतर होता है .
समाचार पत्र , पत्रिकाओं और पुस्तकों  में रचनाएँ छपने  से  अब तक के अपने लेखन के सफ़र से उत्साहित हूँ , अभी बहुत लिखना है , बेहतर लिखना है , लिखते जाना  है ....बाकी ब्लॉगिंग की अपनी शुरुआत और सफ़र के बारे में तो अपनी पिछले चार वार्षिक प्रविष्टि में लिख ही चुकी हूँ , नया क्या लिखूं।  
कुछ बहुत अच्छे मित्र /मार्गदर्शक /शुभचिंतक भी है यहाँ , तो हतोत्साहित करने के साजोसामान भी हैं. मगर सकारत्मकता हमेशा ही विजयी होती है /होगी यही विचार मन में दृढ होता है . 
इस चिंतन मनन का कारण है कि आज ब्लॉगिंग की शुरुआत को पांच वर्ष  पूर्ण हुए . 
दे दीजिये बधाई और शुभकामनाये भी आगे के अनगिनत वर्षों के लिए ......
स्नेह के साथ उत्साहवर्धन करने और बेहतर सलाह देते हुए लेखन और प्रकशन के अनेक अवसर देने के लिए हिंदी ब्लॉगिंग और सभी साथी ब्लॉगर्स का ह्रदय से आभार !!!

34 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्‍छा लिखा है .... बधाई के साथ अनंत शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत बधाई और हर्दिक शुभ कामनाये ....
    God Bless you

    उत्तर देंहटाएं
  3. यूँ चलती रहे कलम, अभिव्यक्ति को मिलता रहे मंच. बाकि सब तो आना जाना है, एक बहाना है :)
    बहुत बधाई पांच वर्ष पूरे होने की. (Y)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत बधाई.......सफर यूं ही चलता रहे

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत - बहुत बधाई पांच वर्ष पूरे होने की .........

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिंदी ब्लॉॅगिंग में सुस्ती इसलिए कि अनेक ब्लॉग़ बन गये, इस हाथ दे उस ले ले के आगे हल्दी चूना बोल दिये। अब लिखते हैं कभी कभी ब्लॉग पर, पढ्ते उनको हैं जिनको पढ़ना अच्छा लगता है, टिप्पणी कई बार नहीं दे पाती, पर इसका सुख ही अलग है :) 5 वर्ष पूरे होने की बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. Ssneh badhaii har saal badhaii dii haen aur umeed haen is saal yae post badhaii sangrh kae baad hataa nahin lee jayegii :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अक्षय तृतीया और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut bhut badhai age bhi yah krm anvart chlta rhe iske liye anek shubhkamnaye .

    उत्तर देंहटाएं
  10. इसे कहते हैं ब्लॉगिंग का जोश 5 साल पूरे कर लिये सीखिए ब्लॉग को ज़िंदगी बनाना! :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. ब्लॉग पर पांच साल से सतत लिखते रहने के लिए बहुत बहुत बधाई और आगे निरंतर विचारों का आदान प्रदान होता रहे इसके लिए हार्दिक शुभकामनाएं । वाकई ब्लोगिंग ने बहुत लेखकों को नए आयाम दिए हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बधाई एवम शुभकामनाऐं ढेर सारी ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ढेरों बधाइयाँ ..... सतत लेखन की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  14. बधाई तो बनती ही है
    इस पंचवर्षीय और आगामी सुखद यात्रां के बहुत-बहुत हार्दिक बधाई, शुभकामनाये!a

    उत्तर देंहटाएं
  15. सर्वप्रथम बधाई!! पाँच वर्षों का सफ़र और अनवरत लेखन, कम नहीं होता! ब्लॉगिंग को हमने ही नुकसान पहुँचाया है. सोशल साइट्स की त्वरित प्रतिक्रियाएँ और प्रशंसा लोगों को प्रफुल्लित करते हैं. लेकिन ब्लॉग पर आपसे जुड़ा हर व्यक्ति जो आपका सच्चा प्रशंसक है, वो बिना इस बात की परवाह किये कि आप उनको पढती हैं या नहीं टिप्पणी करती हैं या नहीं, आपके यहाँ लगातार आता है.
    फेसबुक पर आपकी रचनाएँ दबी रह जाती हैं. आज ही आपके एक स्टैटस पर कमेण्ट करने जा रहा था तो वो ग़ायब हो गया. बाद में ढूँढता रहापर नहीं मिला. आपके टाइम्लाइन पर उसे खोजा जा सकता था, लेकिन इतनी इल्लत कौन पाले. ख़ैर एक बार फिर बधाई. यूँ ही लिखती रहिये!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत-बहुत बधाई सहित अनंत शुभकामनाएं ...शब्दों क सफ़र ऐसे ही अनवरत चलता रहे ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. पाँच वर्ष की सफल ब्लाग-यात्रा पर हार्दिक बधाई - अनवरत-अबाध चलती रहे !

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत-बहुत बधाई आपकी इस यात्रा के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत-बहुत बधाई वाणी जी ! ब्लॉगिंग का आपका यह सुहाना सफर यूँ ही अनवरत जारी रहे और आप नित नयी सफलता हासिल करें और नित नए मुकामों पर अपने प्रबुद्ध लेखन के शिलालेख स्थापित करें यही कामना है ! इस विशिष्ट उपलब्धि पर मेरी ओर से अशेष शुभकामनायें स्वीकार कीजिये !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत - बहुत बधाई ……सफ़र निरन्तर चलता रहे

    उत्तर देंहटाएं
  21. हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ...अभिव्यक्ति का यह सफ़र यूँ ही चलता रहे. पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ. अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  22. 5 वर्ष पूरे होने की बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  23. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ... ऐसे ही कई पांच वर्च और बीतते रहें ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. ले ही लीजिये बधाई और शुभकामनाये..

    उत्तर देंहटाएं
  25. तकनीक ने संसार भर में बैठे लोगों को साथ जुडने का अवसर दिया है। सत्संगति में तो विकास है ही, अपना भी और संगत का भी। आपका लिखा प्रभावी बना रहे, इसी शुभकामना के साथ आपको बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत बहुत बधाई...पांच साल पूरे करने के लिए....लिखते रहिये लगातार और हम पढ़ते रहेंगे :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत बहुत बधाई पाच वर्ष पूरे होने पर। आपकी कलम ऐसे ही तलती रहे और नयी ऊँचाइयां छूती रहे।

    उत्तर देंहटाएं