गुरुवार, 11 जून 2009

चंद अल्फाज़

दोस्त दुश्मन में फर्क कर सकें
ऐसे नादाँ भी हम नहीं
दोस्त छुप कर वार किया करते हैं
दुश्मन कलेजा चाक कर देगा ...ग़म नहीं


उस दिन मुंह फेर कर गया जब वो उदास लम्हा
मैं देर तक सोचती रही तन्हा...
लोग हंस कर मिलते हैं कलेजा छिल कर रख देते हैं
वोह तंज़ भी करता था तो मुस्कुराहटें भर देता था ...

5 टिप्‍पणियां:

  1. वाह क्या लाजवाब बात कही है. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा!! क्या बात है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भाव।
    दोस्त दुश्मन के बारे में तुलसीदास जी कह गए हैं कि-

    मिलत एक दारुण दुख देई बिछुरत एक प्राण हर लेई।

    उत्तर देंहटाएं