शनिवार, 22 अगस्त 2009

प्रिन्स डांस ग्रुप

गणेश चतुर्थी पर बताते हुए बहुत प्रसन्नता हो रही है कि आख़िर प्रिन्स डांस ग्रुप ही प्रथम स्थान पर विजयी रहा। कलर्स चैनल पर प्रसारित होने वाला "indias got talent" नामक यह कार्यक्रम शुरूआती दौर में इतना लोकप्रिय नही था। सच कहूँ तो मैंने भी नियमित रूप से इसे नही देखा ...मगर सेमी फाइनल में प्रिन्स डांस ग्रुप की प्रस्तुति ने तो समां ही बाँध दिया ...स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर इस ग्रुप की प्रस्तुति में जो खास था वह था देश के राष्ट्रीय चिह्न अशोक चक्र आदि का अपनी नृत्य प्रस्तुति में निरूपण करना ... जब कार्यक्रम के उदघोषक ने इस ग्रुप का परिचय दिया तो ...इस ग्रुप के कलाकारों के प्रति मन श्रद्धा से भर गया । नृत्य कार्यक्रम के द्वारा देश प्रेम का अलख जगाने वाले ये प्रस्तोता अनोखे हैं ...इस सन्दर्भ में की ये कोई पारम्परिक नृत्य कलाकार नही थे ...इनमे से अधिकतर कलाकार इमारतों के निर्माण में कार्यरत मजदूर थे ...कोई मिटटी ढोता है ...कोई मिटटी खोदता है ...कोई इंटों को जमाता है ...इनकी मेहनतकश जिंदगी के बावजूद नृत्य का या जज्बा... और वो भी देश प्रेम को प्रर्दशित करता हुआ ....सचमुच बहुत अद्भुत लगा ...घर में आरामदायक स्थिति में ...कूलर एसी की ठंडी हवा खाते ...रिमोट द्वारा लगातार चैनल बदलकर कार्यक्रम देखते हम लोगों के लिए देश की हालत पर चिंता जताना ज्यादा मुश्किल कार्य नही है ...मगर तेज चिलचिलाती गर्म धुप के थपेडों के बीच रोजी रोटी की मशक्कत में जुटे इन मेहनतकशों को देश से कोई शिकायत नही है ...उडीसा के बुरहानपुर से आए इस ग्रुप के कार्यक्रम ने तो यही साबित किया । विपरीत परिस्थितियों में पले बढे इन कलाकारों के जज्बे को देखकर कार्यक्रम के जज शेखर कपूर भी अपने आँसू नही रोक पाए ...मेरा दावा है घरों में कार्यक्रम देखने वालों को भी इनके जज्बे ने जरुर रुलाया होगा ...न सिर्फ़ मजदूर बल्कि इनके ग्रुप में दो सदस्य शारीरिक अक्षमता के शिकार भी थे ..पूरे नृत्य कार्यक्रम में इन कलाकारों का स्थान इस तरह निश्चित किया गया था कि इनकी शारीरिक अक्षमता कार्यक्रम प्रस्तुति में कही भी आडे नही आयी । इस अद्भुत कार्यक्रम को देखने के बाद से ही इसके फायनल शो तथा उसके परिणाम का बेसब्री से इन्तिज़ार था जो कल देर रात जाकर मुकम्मल हुआ। कार्यक्रम के टॉप 11 प्रस्तुतियों को देखकर एक बारगी प्रिन्स डांस ग्रुप के लिए थोडी चिंता हुई मगर टॉप थ्री में इनकी पहुँच के बाद जीत को लेकर आशा बंध गयी । इस ग्रुप ने कृष्ण सहित विष्णु के दशावतार को अपनी नृत्य क्षमता द्वारा बहुत खूबसूरती से पेश किया जिसमे से नृसिंह अवतार तो बहुत ही लुभावना रहा । कार्यक्रम के निर्माताओं द्वारा उन्हें 50 लाख रुपये नकद, साथ ही एक मारुती कार इनाम में दी गयी .
अक्सर अपने आसपास लगातार सच को निर्ममता से हारते हुए ...बेईमानी द्वारा लोगों को जीत हासिल करते हुए ही देखा है अब तक ...इन सबके बीच दैनिक मजदूरी कर जीवन यापन करते हुए इस प्रिन्स डांस ग्रुप को अपनी कला के बल पर जीतते हुए देखना बहुत सुखद अनुभव रहा ...मतलब अभी हालात इतने बुरे भी नही हुए हैं ...उम्मीद की एक किरण अभी भी बाकी है .
गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें .....!!
http://www.youtube.com/user/IndiaGotTalent1

.............................................................................................................................................................

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

हमारी धर्मनिरपेक्षता को प्रमाण की आवश्यकता क्या है .....

कल अचानक ही महीनों के बाद झारखण्ड से बचपन की दोस्त का फ़ोन आया। बता रही थी .." जन्माष्टमी से ही तुम्हे बहुत याद कर रही थी मगर फ़ोन करने का समय अब निकाल पाई हूँ ...कैसी रही तुम्हारी जन्माष्टमी ...अब भी वैसी ही सजावट होती है क्या ...क्या क्या बनाया खाने में ..." जब उसे बताया की यहाँ हम लोग घर में झूला नही सजाते बल्कि मन्दिर ही जाते हैं तो कुछ निराश सी हो गयी। कहने लगी " तुम्हे याद है ना जन्माष्टमी पर मैं तुम्हारे घर जाती थी ...कितनी रौनक होती थी ...मैं उन दिनों को बहुत याद करती हूँ " और माँ की तबियत और उनके घर के सदस्यों {मेरा घर तो अब रहा नही ना...} के हाल चाल पूछते हुए अपनी खैर ख़बर भी देती रही । वह एक अध्यापिका है और अत्यधिक व्यस्त होने के कारण ही हमारी बातचीत महीनों में हो पाती है और जब बात होती है तो हमारे खजाने में इतना कुछ जानने बताने के लिए जमा हो जाता है ...आगे उसने बताया ..." अभी दो दिन पहले मेरी बेटी के स्कूल में पेरेंट्स मीटिंग थी ...मैं जा रही थी उसकी क्लास में की पीछे से किसीने जोर से कंधे पकड़कर रोक लिए ...तुम्हे पता है ...कौन थी वो ...अरे वही ..हमारे पड़ोस में ...कई बार दीदी-दीदी करते हुए जाती थी ...उसकी बेटी भी मेरी बेटी की क्लास में ही पढ़ती है ." आगे उसने बताया ..." वो मुझसे गले मिल कर रो पड़ी थी . कहते हुए की मुझे लगता था इस अनजान शहर में कोई तो परिचित जरुर मिलेगा ...और हमारी नालायाकियों की { बहुत फिल्मे देखते थे } याद दिलाते हुए तुम्हारे लिए पूछ रही थी ..." सच है ..उस छोटे से कस्बे में जहा हम साथ पले बढे ...फिल्मों के अतिरिक्त मनोरंजन का और कोई साधन नही था ...मेरी उस सहेली के घर से कुछ क़दमों की दूरी पर ही सिनेमा हॉल होने के कारण कभी भी घुमते घामते पहुँच जाते ...बीडी -सिगरेट के धुएं की गंध के बीच लकड़ी की बेंचों पर दुपट्टे से पसीने पोंछते हुए{ रुमाल छोटी पड़ जाती थी } भी फ़िल्म अधूरी नही छूटती थी। काफी देर बातें होती रही ..." वो अपनी मैं थी ना...उनका क्या हाल चाल है ...आज कल कहाँ है ...कभी मिली हो क्या उनसे ..." अब वो हमारे विद्यालय की प्रधानाध्यापिका के लिए पूछ रही थी जो हमारे घर में कुछ समय पेइंग गेस्ट बन कर भी रही थी ...और जो स्कूल टाइम के बाद हमारी आंटी बन जाती थी।
अचंभित होंगे ना...इसमे ब्लॉग पर बताने जैसा क्या है ...और इनमे से किसी का नाम भी नही लिखा ...क्या ख़ास है इसमे ...बहुत ख़ास है ...मेरी जिस सहेली का फोन था वह थी लूसी जो ईसाई है ....उसके पड़ोस में रहने वाली लड़की जो बहुत सालों बाद उसे बेटी के स्कूल में मिली उसका नाम है जेबा और वो मुस्लिम है ...हमारी जिस प्रधानाध्यापिका के बारे में वह जानना चाहती थी ...जसबीर कौर ...सिख हैं ..और हम तो जो हैं ...आप सब को पता ही है...और हम सभी अपनी धर्म और धार्मिक परम्पराओं { आप चाहे इसे आडम्बर कह ले } के प्रति कुछ हद तक कट्टर भी है औए काफी हद तक उनका पालन भी करते हैं ...मेरी सहेली हर रविवार को विशेष मास में शामिल होने चर्च जाती है ...जेबा रमजान पर पूरे महीने रोजे रखती है ....लोह्डी पर आंटी की बांटी गयी रेवड़ियों की मिठास अभी तक याद है ... मगर हमारे रिश्तों में इससे कभी कोई फर्क नही पड़ता था..
आश्चर्य होता है ....उस छोटे से कस्बे में ....बहुसंख्यक अशिक्षित आबादी के बीच पले बढे हम लोग ...सामाजिक समरसता का यह पाठ कैसे सीख पाये ...कब सीख लिया हमने ...की अपने धर्म का पालन करने के लिए ना तो दूसरे को नीचा दिखाना जरुरी है ....और ना ही अपनी धर्मनिरपेक्षता को साबित करने के लिए अपने धर्म को जी भर कर कोसना ...हमने ये कब और क्यों कर सीख लिया ...हमारी शिक्षा दीक्षा में क्या कमी रह गयी ...पता नही ...!!

.....................................................................................................................