शनिवार, 16 मई 2009

धन्यवाद

नया कुछ सीखने की लालसा ब्लोगिंग पर ले आयी है ..जानती हूँ अभी बहुत त्रुटियां है ..पर पहले ही प्रयास पर विद्वजनों की इतनी होंसलाअफजाई ....बहुत हिम्मत आ गयी है...अभी बहुत कुछ सीखना है ...आप सभी गुणीजनों का बहुत बहुत आभार...बहुत साधारण है मेरा लेखन ...मगर मैं जानती हूँ और मानती भी हूँ ...की असाधारण बनने की शुरुआत साधारण तरीके से ही होती है... ब्लॉगर साथियों की शुभकामनाओं और मार्गदर्शन से जरुर ही यह सम्भव होगा... विचारों की अनंत यात्रा के पहले शब्द पर आप लोगों की प्रतिक्रियाओं के लिए एक बार फिर से बहुत बहुत आभार...