मंगलवार, 5 जनवरी 2010

वह एक नदी थी


वह एक नदी थी ....
जब
तुमसे मिली थी
बहती
थी अपनी रौ में
कल- कल करती.... कूदती- फांदती
प्यार
की फुहारों से भिगोती
इठलाती थी.... इतराती थी
चंचल शोख बिजली- सी बल खाती थी
पर ....
तब
तुम्हे कहाँ भाती थी ......!!

राह में उसके कंकड़- पत्थर भी थे
कुछ
सूखे हुए फूल
कुछ गली हुई शाखाएं भी
कुछ अस्थि कलश जो डाले थे किसी ने
किसी अपने को मोक्ष प्रदान करने के लिए
कुछ टोने टोटके बंधे धागे जो बांधे थे किसी ने
अपने पाप किसी और के सर मढने के लिए
गठरी
बंधी थी कामनाओं की ...वासनाओं की
जो
बांधी थी कुछ अपनों ने कुछ बेगानों ने
और
भी ना जाने क्या क्या था उसके अंतस में
था
जो भी ....उसके अंतस में
ऊपर
तो थी बस
कल
-कल करती मधुर ध्वनि

पर ....
तुम्हारी
नजरे तो टिकी थी
बस
अंतस की गांठों को तलाशने में
उस तलाश में तुमने नहीं देखा
उसकी
पावन चंचलता को
क्या
- क्या नाम दिए तुमने
उसकी
चपलता को
तुम
ढूंढते ही रहे कि ...कोई सिरा मिल जाये
कि
रोक पाओ उसे ....बांध पाओ उसे
और
कुछ हद तक बांधा भी तुमने उसे

पर ... क्या तुम्हे पता नहीं था ....!!
धाराएँ
जब आती हैं उफान पर
सारे तटबंधों को तोड़ जाती हैं
कोई दीवार नहीं बाँध पाती है
और
अगर दीवारों में बंध जाती है
तो नदी कहाँ कहलाती है ....
नदी
का पानी जब ठहर जाता है
कीचड हो जाता है ...
क्या
तुम्हे पता नहीं था ...!!

पर ...जरा ठहरो ....
अपनी
दीवारों पर इतना मत मुस्कुराओ
उम्मीद की एक किरण अभी भी बाकी है
कीचड
में फूल खिलाने का हुनर
नदी जानती है
कभी हार कहाँ मानती है
नदी
हमेशा मुस्कुराती है .......!!


तस्वीर गूगल से साभार
(डेली न्यूज़ के खुशबू परिशिष्ट में प्रकाशित )


***************************************************************************************

41 टिप्‍पणियां:

  1. वाणी,
    तेरी कविता का क्लाइमक्स ओह्ह्ह क्या बात.....नदी मुस्कुराती है !!!
    बहुत खूबसूरत....नदी अगर दीवारों में बंध जाए तो वो नदी कहाँ कहलाती है....वो कीचड़ हो जाती.....सत्य वचन ..
    आपकी कविता डेली न्यूज़ के खुशबू परिशिष्ट में छपी जान कर कितनी प्रसन्नता हुई क्या बताएं आपको...
    एक ट्रक बधाई भेजा है शर्मा जी से कहियेगा उतरवा लेंगे...:):)

    उत्तर देंहटाएं
  2. धाराएँ जब आती हैं उफान पर तो सारे तटबंधों को तोड़ जाती हैं........मन ...एक स्त्री के गहन मन को उतारा है,
    शब्द अन्दर उमड़-घुमड़ रहे हैं ........ शायद धाराएँ हैं, आपने महसूस किया ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. nadi muskarati hai, dhyan se dekha hai nadi ansu bhi bahatai haijab use kal ki yaad ati hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह क्या बात है , लाजवाब प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दी... ultimate कविता लिखी आपने... मुझे ऐसा लगता है कि इस कविता में नदी मैं ही हूँ....... बहुत शानदार कविता......

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने नदी के माध्यम से एक स्त्री के मन को दर्शाया है.
    मुझे कविता बहुत पसंद आयी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये नदी भी न सब कुछ खामोश झेल जाती है.

    क्या इशारा किया है कविता ने.

    हाँ, नदी मुस्कुराती है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. "धाराएँ जब आती हैं उफान पर
    तो सारे तटबंधों को तोड़ जाती हैं."

    बहुत अच्छी तरह से अभिव्यक्त किया है आपने नदी के माध्यम से , आभार !!

    आपको बहुत बहुत बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. नदी का क्या खूबसूरत एहसास दिया आपने/......

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतरीन और नायाब रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ek nadi ke madhyam se bahut kuch kah dia aapne..uchchkoti ki rachna vaani ji ! badhai swikaren.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद खूबसूरती के साथ बहुत कुछ कह रहीं हैं हर लाइनें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. नदी मुस्कुराती है से बढ़कर नदी की राह की व्याधियां और बाधाएं -उफ क्या चित्रण किया है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. कीचड मे फूल खिलाने का हुनर नदी जानती है
    वाह क्या गहरी और सुन्दर बात कही बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. खिलने की जगह खिलाने कर दीजिये ...रचना अच्छी है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. vani ji aapki ye rachna copy paste nahi ho rahi varna ek ek line par apne comments deti aur wah wah kehti...such me aaj aapne ye rachna kamaal ki likhi hai..bahut kuchh apni si lagi..Ada ji ki tareh me b truck k piche mal gaadi ka dibba bhar ke bhej rahi hu badhayi sweekar kijiyega...aur stock jyada ho jaye to mere blog per la kar store kar dijiyega..ha.ha.ha..
    ek bar fir se aapki is rachna k liye dil se daad deti hu.

    उत्तर देंहटाएं
  17. BAHUT SHASHAKT ....KOMAL NAARI MAN KO BAHTI HUYI NADI KE MAADHYAM SE BAHUT SUNDAR TARIKE SE LIKHA HAI ...... ACHEE KALPANA HAI ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन ... शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  19. नदी के माध्यम से नारी के अंतर्मन कि खूबसूरती को बहुत ही सलीके से उतारा है शब्दों के केनवास पर |
    बहुत ही गर्व का अहसास कराती अपूर्व अभिव्यक्ति |
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. सच मे..हर नदी की यही बायॉग्राफी भी होती है..पहाड़ से समंदर के बीच के पूरे सफ़र की दास्ताँ...मगर बेहतरीन चीज यह है कि उम्मीद की किरण हमेशा बाकी रहती है और कीचड़ मे फूल खिलाने के हुनर को जानती है..

    उत्तर देंहटाएं
  21. सच ही तो कहा है आप ने ..नदी को बांध सका है कोई..बहुत ही सुन्दर रचना

    आशु

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेहतरीन लगी आपकी यह रचना ..सुन्दर तरीके से आपने इन्हें लफ़्ज़ों में पिरोया है ..शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  23. कीचड़ में कमल खिलाने का हुनर जानती है...नदी हमेशा मुस्कराती है....क्या बात कह दी..बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति...नारी मन के अंतस से निकली ये कविता..बस मुग्ध कर गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  24. लाजवाब! बहुत सुन्दर कविता है. इसी नदी पर मैंने एक कहानी लिखी थी, [संपादिका जी को नापसंद रही इसलिए छपी नहीं] बाद में कभी ब्लॉग पर रखूंगा.

    उत्तर देंहटाएं
  25. apni kavita ki kuch lines pratikriya swaroop
    "कल रात sapne में हंसी थी नदी
    मुझसे लिपट कर ए़क उन्मुक्त हंसी
    और नदी बोली
    कोई पूछे तो कहना
    रुकना नदी की प्रकृति नही...."

    behtreen rachna !

    उत्तर देंहटाएं
  26. अगर नदी के हाथ होते तो कहती हाथ जोड़कर
    कर दो मुझे क्षमा कि मैंने तुमसे दोस्ती की.

    उत्तर देंहटाएं
  27. सोच रहा हूँ, नदी को यूं बिम्ब बना कर कितना कुछ कह दिया आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  28. मुझे थोड़ी देर हो गयी आपकी इस खूबसूरत कविता तक पहुँचने में..क्षमा कीजिएगा..नदी की खूबसूरती और हिम्मत बयाँ करती एक बेहतरीन कविता..प्रकृति के इस अद्भुत वरदान को समर्पित लाज़वाब कविता..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  29. yakinan kavita daad ki haqdaar hai
    kubool karen ..shabd or bhaav ki bejoD adaygii

    उत्तर देंहटाएं
  30. बिलकुल सही कहा अदा जी ने - क्लाइमेक्स ! यह तो बेहद शानदार है !
    पूरी जीवन यात्रा के अनगिन घात-प्रतिघातों को सम्पुटित करती मुस्कराहट ! ’कैसे-कैसे हादसे सहते रहे,फिर भी हम जीते रहे ,हँसते रहे’ की मानिन्द !

    बेहतरीन रचना । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  32. sudha ne kha..........
    hame aap per GARVE he di!!
    badhai ho aapko!

    उत्तर देंहटाएं
  33. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  34. hame aap per GARVE he di!!
    aap ki anguli thanbh ker es raste per chalana chaheti hu...... jo syayed me bhul si gayi the.....
    badhai ho aapko!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत सुंदर रचना वाणी जी ....आज के परिपेक्ष में भी कितनी सही लग रही है ....!!!

    उत्तर देंहटाएं