मंगलवार, 21 सितंबर 2010

बड़ों की पहचान छोटे कार्य से होती है ......... भागवत से कुछ प्रसंग

बड़ों की पहचान छोटे कामों से होती है ...

महाभारत के बाद पांडवों ने यज्ञ में संतों , महात्माओं और राजाओं को बुलाया तथा सभी पांडवों को सेवा हेतु अलग -अलग कार्य सौंप दिए । सभी सेवा में लीन थे । इसी बीच कृष्ण आये । सभी पांडव उनके पास आये तभी एक राजा ने व्यंग्य करते हुए कहा कि आप सब लोग कृष्ण सेवा में लग गए ।
कृष्ण ने मुस्कुराकर युधिष्ठिरने से पूछा ," मेरे हिस्से में कौन सा काम सौंपा है ?"
इसपर युधिष्ठिर ने कहा " आप विशेष अतिथि हैं " ।
भीम ने कहा , " आप क्या काम करेंगे "
कृष्ण ने मुस्कुराते हुए कहा " क्या मैं इतना अयोग्य हूँ कि काम नहीं कर सकता "
आखिर युधिष्ठिर ने कहा कि आपकी जो इच्छा हो , वही कार्य कर लें । कृष्ण मुस्कुराते हुए उठे और वहां पहुँच गए जहाँ अतिथि खाना खा रहे थे । वे उनकी जूठी पत्तलें उठाने लगे ।
पांडवों के रोकने पर उन्होंने कहा," मुझे जो कार्य अच्छा लगा , कर रहा हूँ । सेवा से बढ़कर और कौन सा श्रेष्ठ कार्य हो सकता है ।
भीम ने कहा , " यह कार्य सबसे छोटा है , और आप सबसे बड़े "
कृष्ण ने उत्तर दिया , " बड़े की पहचान छोटे कार्य से होती है ।" सेवा कार्य कोई भी छोटा नहीं होता ।


अहंकार की लडाई ...

ऋषि वशिष्ठ और विश्वामित्र का बैर भी भागवत कथा का विषय रहा है ।
वशिष्ठ , विश्वामित्र को ब्रह्मर्षि नहीं मानते थे । क्रोधित होकर विश्वामित्र ने उनके सौ पुत्रों का वध कर दिया फिर भी उनका क्रोध शांत नहीं हुआ । एक बार वे वशिष्ठ को मारने का प्रयत्न करने रात्रि में उनकी कुटिया में पहुँच गए । कुटिया में वशिष्ठ अपनी पत्नी से बात कर रहे थे .." देखों अरुंधती ! आज पूर्णिमा का चाँद ऐसे चमक रहा है जैसे विश्वामित्र का यश । अरुंधती को पुत्रों के हत्यारे की मां के सामने प्रशंसा करना अच्छा नही लगा ।
अरुंधती ने कहा " फिर आप उन्हें ब्रह्मर्षि क्यूँ नहीं मान लेते हैं , जिससे यह वैर ही समाप्त हो जाए , मेरे सामने उन्हें ब्रह्मर्षि मानते हो , मगर उनके सामने क्यों नहीं "
विश्वामित्र यह वार्तालाप छिप कर सुन रहे थे ।
ऋषि वशिष्ठ ने उत्तर दिया , " विश्वामित्र ज्ञानी व तपस्वी हैं अतः मैं उन्हें ब्रह्मर्षि मानता हूँ परन्तु उनमे अहंकार है , अतः उनके सम्मुख यह स्वीकार नहीं करता ।
इतना सुनते ही विश्वामित्र ने कुटिया में आकार वशिष्ठ के पैर पकड़ लिए ।
वशिष्ठ ने कहा " यह क्या कर रहे हो , ब्रह्मर्षि...?
नम्रता से विश्वामित्र ने जवाब दिया..." अपना अहंकार गला रहा हूँ "

द्रौपदी की उदारता ....
भागवत में द्रौपदी की उदारता का वर्णन भी है ...
द्रौपदी के पुत्रों को मारने वाले अश्वत्थामा को जब अर्जुन पकड़ कर द्रौपदी के सम्मुख लाये और उसका वध करने लगे तो द्रौपदी ने उन्हें रोक दिया तथा उसका वध करने से रोक दिया । उसने अश्वत्थामा को ना मारने के पांच कारण इस प्रकार बताये ...
1. पुत्रवत है
२. मेरे पुत्र छोटे थे , यह बड़ा है
3. ब्राह्मण पुत्र है
4. गुरुपुत्र है
5. मां की पीड़ा जानकर ...एक मां दूसरी माँ की पीड़ा को समझती है ...


कृष्ण -सुदामा की मैत्री

भागवत कथा में कई कथाएं व प्रसंग आये हैं । इसमें मुख्य कथा कृष्ण-सुदामा की है । सुदामा गरीब ब्राह्मण था । पर वह किसी से मांगकर नहीं खाता था । हवन , पूजा व विवाह कराता था । कृष्ण से शापित सुदामा बड़े कष्ट में जीवन यापन कर रहा था ।
गुरु संदीपनी के आश्रम में जब कृष्ण व सुदामा एक साथ विद्या प्राप्त कर रहे थे , एक बार जंगल में लकड़ी काटने जाते समय गुरुमाता ने सुदामा को दो मुट्ठी चिवड़ा (चना ??) दिए और कहा कि भूख लगने पर दोनों मित्र खा लेना । लकड़ी काट कर लौटने से पहले ही घनघोर वर्षा के कारण दोनों को अलग -अलग पेड़ों पर शरण लेनी पड़ी । भूख लगने पर सुदामा ने अकेले ही चिवड़ा खाना शुरू कर दिया , चट पट की आवाज सुनकर कृष्ण ने उनसे पूछा कि तुम क्या कर रहे हो , सुदामा ने झूठ कह दिया कि सर्दी से मेरे दांत बज रहे हैं । सुदामा के इस उत्तर से अंतर्यामी कृष्ण मुस्कुराने लगे । वे समझ गए थे कि सुदामा झूठ बोल रहा है । जब सुदामा को अपनी गलती का एहसास हुआ तो उसने कृष्ण से क्षमा मांगी , तभी कृष्ण ने उसे दरिद्र रहने का श्राप दिया था । वही दो मुट्ठी सुदामा ने जब कृष्ण को वापस लौटाए , श्राप मुक्त हुए ।

सुदामा अपनी पत्नी सुशीला के साथ बड़े कष्ट से जीवन यापन करता था । उसकी पत्नी गरीबी पर हमेशा उसे कोसती थी । वह रोज -रोज सुदामा को कृष्ण के पास जाने और उससे मदद लेने के लिए कहती रहती थी । मगर सुदामा हर बार यह कहकर टाल जाते कि ...मैं किसी से मांग नहीं सकता हूँ , मित्र से माँगना अपमान है । मैं बड़ा हूँ , इसलिए भी छोटे से मांग नहीं सकता । राजाओं से मिलने पर भेंट दे जाती है और वो भी मेरे पास नहीं है । मैं गरीब हूँ , वह राजा है , कहीं पहचानने से इंकार कर दे तो । और फिर द्वारका इतनी दूर है , मैं दुर्बल कैसे इतनी दूर तक चल पाऊंगा ।
इस पर सुशीला ने उसे समझाया कि ठीक है। तुम मित्र से माँगना मत , मगर मिलने तो जा सकते हो । संसार के सारे व्यक्ति दुःख में कृष्ण को याद करते हैं , सहायता की कामना करते हैं । आखिरकार सुदामा जाने को राजी हुए । सुशीला ने पडोसी से कृष्ण को भेंट देने के लिए मुट्ठी भर मेवे मांगे और कहा कि मेरे पति कृष्ण से भेंट करने जा रहे हैं । गरीबों की सत्य कौन मानता है । उसने कहा , " मैंने आज धान कूटा है , तू तंदुल चुग ले " ।

सुशीला ने पहले कहा था कि तुम मुझे जो भी दोगी , कृष्ण द्वारा दिया गया धन आधा तुम्हे लौटा दूंगी । इसपर पड़ोसन ने उसकी गरीबी का मजाक उड़ाते हुए तंदुल बीन लेने को कहा । वही फटे कपड़े में बाँध कर सुदामा कृष्ण से मिलने तैयार हुए । रास्ते में नदी आने पर सुदामा को केवट ने बताया कि द्वारका पहुँचने में तो छः मास लगेंगे । सुदामा नाव से उतर कर वही सो गया और निश्चय किया कि द्वारका नहीं जाना है । यदि कृष्ण को मिलना हो तो यहीं आ जायेगा । उधर कृष्ण को ज्ञात हुआ कि सुदामा आ रहा है । उन्होंने मोहमाया को बुलाकर कहा कि नदी के किनारे एक वृद्ध सो रहा है ,जिसके सांसों से कृष्ण कृष्ण की आवाज़ आ रही है , उसे उठाकर द्वारका ले आओ
महामाया कृष्ण को द्वारिका ले आई ...मिलने पर कृष्ण ने सुदामा के पैर अपने अश्रु जल से धोये , नए वस्त्र पहनाये , अच्छा और स्वादिष्ट भोजन खिलाया , और सुशीला के दिए हुए अन्न के दाने पोटली छीन कर खाने लगे जब सुदामा लौटने लगे तो कृष्ण ने उनके फटे पुराने वस्त्र ही पुनः पहना दिए । विदा होते समय सुदामा कृष्ण से कह कर रो पड़े . " गरीबों का इतना सत्कार कौन करता है , मै तो केवल इतना ही कह सकता हूँ कि द्वारका में मैंने जो कुछ प्राप्त किया है , उसे ही वापस लौटाता हूँ ।
अर्थात सुदामा ने कुछ माँगा नहीं , लिया नहीं -- केवल मिला ही । कृष्ण ने उन्हें दो लोकों का राज्य दिया था , सुदामा ने उसे वापस लौटा दिया । इसलिए ही कृष्ण को त्रिलोकी नाथ कहा जाता है । कृष्ण ने सुदामा को कुछ नहीं दिया क्यूंकि उन्होंने माँगा नहीं था , मगर सुशीला को धन व महल दिए थे क्यूंकि उसने माँगा था ...

माँगना है , झोली फैलानी है सिर्फ उस कृष्ण के सामने फैलाओ ...

31 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर पोस्ट और उद्धरण प्रस्तुत किये.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस पोस्ट के जरिये इतनी सुंदर कहानियां पढने को मिलीं आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सारे प्रसंग ज्ञानवर्धक और प्रेरणास्पद है .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस पोस्ट और इतने प्रेरणामयी प्रसंग हम सबके समक्ष प्रस्तुत करने के लिए बहुत-२ आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर भागवत प्रसंग ....
    विश्वामित्र और वशिष्ठ की शत्रुता पर वाल्मीकि रामायण का एक श्लोक याद हो आय
    वशिष्ठ से आमने सामने युद्ध में विश्वामित्र लाख चाहने के बाद भी वशिष्ठ का बाल बांका भी न कर सके ..
    कह पड़े ...
    धिग बलम क्षत्री बलम ब्रहम तेजो बलम बलम
    एकेन ब्रह्म दंडेंन बहु शस्त्राणि हतानि में

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रसंगो का संकलन

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर पोस्ट और उद्धरण प्रस्तुत किये. ..
    इस पोस्ट के जरिये इतनी सुंदर कहानियां पढने को मिलीं
    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. krishn to mere saarthi bane rahe , akele to main hui hi nahi .......... her prasang sochne ko ek naya aadhar deta hai

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज तो झोली भर दी। सारे ही प्रसंग एक से बढ़कर एक। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर पोस्ट और उद्धरण ... आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रेखा श्रीवास्तव जी मेल से ...

    इस विधा से कुछ तो ऐसा मिलने लगा है, जिसके लिए हम समय नहीं निकल पाते हैं. ज्ञानवानी अपनी नाम को सार्थक कर रही है और हमें कुछ ज्ञान दे रही है अगर पढ़ कर किसी एक ने भी जीवन में उतार लिया तो जीवन सार्थक.
    वाणी जी,मैंने इसको पेस्ट करने में कुछ परेशानी अनुभव कर रही हूँ, अतः इसको आप कमेन्ट में पोस्ट कर दें. बड़ी कृपा होगी..

    उत्तर देंहटाएं
  12. भागवत के बहुत सुन्दर प्रसंगों को लिया है ...बहुत उम्दा पोस्ट लगी ..मन भी कृष्णमय हो उठा ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आशा करते हैं कि कुछ और प्रसंग भी पढ़ने को मिलेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रसंग तो सारे ही अच्छे हैं और शिक्षाप्रद भी मगर एक बात कहना चाहूँगी कि कृष्ण ने श्राप नही दिया था सुदामा को बल्कि जब गुरुदेव को पता चला था तब उन्होने श्राप दिया था। कृष्ण ने तो सदा मित्र धर्म निभाया था।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर प्रसंग उम्दा पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।
    प्रेरणा दायक ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. काफी ज्ञान और प्रेरक बातें। आभर। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    देसिल बयना-गयी बात बहू के हाथ, करण समस्तीपुरी की लेखनी से, “मनोज” पर, पढिए!

    उत्तर देंहटाएं
  18. छोटी छोटी सुन्दर प्रेरक कहानियों से भरी पोस्ट...एकदम संग्रहणीय.

    उत्तर देंहटाएं
  19. जैसे खदानों से हीरे छांटे जाते हैं उसी प्रकार आपने इन प्रेरक उद्धरणों को यहां लगाकर उत्कृष्ट कार्य किया है. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  20. दी........आज की पोस्ट तो बहुत ही अच्छी लगी....

    उत्तर देंहटाएं
  21. आह्लादकारी प्रसंग....

    आत्मा प्रफ्फुलित हो गयी पढ़कर...

    कोटिशः आभार आपका..

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर प्रसंग हैं .. आनद आ रहा है ... भागवत पहले नही पढ़ी पहले इसलिए और आनंद आ रहा है ....

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाणी जी
    बहुत प्रेरक प्रसंग लिए है आपने आपने ग्रंथो के |आपने जीवन में एक भी उतार पाए तो शायद सार्थक हो जीवन ?
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर उद्धरण...अच्छा लगा यहाँ आकर.
    ______________
    'शब्द-शिखर'- 21 वीं सदी की बेटी.

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सही प्रसंगों का चयन आपने किया है ।

    उत्तर देंहटाएं