शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2010

एक रोचक वाकया ... गूगल बाबा की मेहरबानी का

गूगल बाबा की मेहरबानी से किसी भी मेल प्राप्त कर्ता की चैट लिस्ट में मेल भेजने वाले का नाम अपने आप ही जुड़ जाता है ...और इसके कारण आप कैसी अजीबोगरीब स्थिति का सामना कर सकते हैं देखिये ...


मेरी भाभी जो अभी कुछ महीने पहले ही इन्टरनेट से जुडी हैं , ने ऑरकुट पर अपना अकाउंट बनाया ....एक दिन मेल बॉक्स में उनका नाम ऑनलाइन दिख गया ...उनकी दिनचर्या से परिचित होने के कारण इतनी सुबह उनका नाम देखकर मुझे थोड़ी हैरानी हुई...
अपनी आदत के मुताबिक छेड़ दिया ... " का हाल बा "
उधर से जवाब आया ..."नमस्कार "

उस दिन मैं स्वयं भी जल्दी में थी ...बात बस यहीं समाप्त हो गई..

उसके कुछ दिनों बाद फिर दिख गयी ...उसी समय ...
"क्या कर रही हो"...मैंने पूछ ही लिया
एक लिंक भेजा है किसी ने , वही देख रही थी ....
अपना फ़र्ज़ समझते हुए टोक ही दिया ...
"किसी भी अनजान व्यक्ति की भेजी मेल या लिंक एकदम से मत खोल लेना .."
इतना समय हो गया है , अब तो समझ आ ही गया है कि क्या देखना चाहिए , क्या नहीं" ...
उधर से जवाब आया ...
मेरा चौंकना स्वाभाविक था ... उन्हें ज्यादा समय हुआ नहीं है ...थोडा बुरा भी लगा कि शायद मेरी सलाह अच्छी नहीं लगी उन्हें ...फिर ये सोच कर कि ननद और भाभी का ऐसा वाला रिश्ता तो स्वाभाविक , सनातन और शाश्वत  है , चुप लगा गयी ...

अभी कुछ दिनों पहले मिलना हुआ तो मैंने उस दिन की बातचीत का जिक्र किया ...
"मगर दीदी , मेरी तो आपसे बात ही नहीं हुई , और इतनी सुबह तो मैं ऑनलाइन रहती ही नहीं हूँ ..."उसने कहा तो चौंकने की बारी मेरी थी ...गनीमत है कि आदत के मुताबिक कोई हंसी -मजाक नहीं किया था ...

चैट लिस्ट चेक की तो सारा माजरा समझ आया ...भाभी के नाम का ही आई डी किसी ब्लॉगर का था ...अब क्या किया जाए ...उन ब्लॉगर महोदय /महोदया को कहने की बजाय सीधे पोस्ट ही लिख दी है ...ग़लतफ़हमी का कारण समझ ही जायेंगे ...

एक साथी ब्लॉगर का टोकना याद आ गया ..." कभी किसी से बात की शुरुआत मत करो " ...नहीं करेंगे जी :):) ...और बात करनी होगी तो अच्छी तरह मेल एड्रेस पढ़ कर ...

24 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ ..
    बिना विचारे किसी से बात मत कीजियेगा...का जाने का हो जाए...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आरकुट का तो भगवान ही मालिक है।
    मैं तो एक बार डीलिट कर चुका हूँ।

    सावधानी रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. देखा रश्मि जी ने क्या कहा ...मैं भी यही करता हूँ :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं इन सब लफड़ों से दूर ही रहता हूँ जी. चैटिंग किये हुए तो दस साल से भी ज्यादा हो गया. पिछला एस एम् एस भी पिछले साल किया था. ढेर सारे ई-मेल आई डी से एक-दो को छोड़कर सब कैंसल कर दिए. फेसबुक हो या औरकुट, सभी में इनविसिबल. चैन से रहने के लिए यह सब अब ज़रूरी हो गया है. समय-समय पर फेसबुक से 'दोस्तों' की छंटनी करते रहना भी ज़रूरी समझता हूँ. यहाँ तो जितना आगे बढ़ो उतना ज्यादा धंसने के खतरे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसा नहीं कि कभी भी बात की शुरुआत नहीं करनी चाहिए...पर हाँ, टिप्पणियों का आदान-प्रदान हो जाए...उन महोदय/महोदया के व्यक्तित्त्व को अच्छी तरह जान जाएँ, फिर बात शुरू करने में कोई हर्ज़ नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अजी इस गलत फ़ेहमी को आप दुर कर सकती हे, आप सेटींग मे जा कर इन के नाम या रिश्ते लिख दे, जेसे भाभी,मुन्ना, बाऊ जी. बस फ़िर आप को कभी दिक्कत नही होगी, ओर बार बार चेक भी नही करना पडेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाकई रोचक वाकया है...बहुत बढ़िया ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं तो वैसे भी स्टेटस देख कर ही बात करता हूँ.... जीमेल में तो हमेशा इनविज़िबल ही रहता हूँ... जब तक के सामने वाले को अच्छे से जान ना जाऊं तब तक आइस ब्रेक नहीं करता... और अगर किसी को पहचाननने में गलती हो गयी.... तो लात मारने में भी देरी नहीं लगाता हूँ... जीमेल में ऑरकुट में तो कभी किसी को तब तक के ऐड नहीं करता हूँ... जब तक उसे ना जानूं...

    दी ... आपके ब्लॉग पर काफी दिनों के बाद आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.... दरअसल मेरा बेटा यह दुनिया छोड़ कर चला गया... अभी ही उसकी डेथ हुई है... तो उसी के ग़म में था... और अब सारा काम धाम करने के बाद ही फ्री हुआ हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. "कभी किसी से बात की शुरुआत मत करो "
    यदि यह नियम विश्व में लागू हो जाये तो "ॐ शांति!"

    उत्तर देंहटाएं
  10. आभासी दुनिया में सावधानी तो दूनी जरूरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रोचक! अक्सर ऎसे वाकये हो ही जाते हैं...जिन पर कि बाद में सिर्फ हँसा जा सकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. रोचक....
    सावधानी हटी और दुर्घटना घटी....

    उत्तर देंहटाएं
  13. हा हा!! एक दिन कोई मुझसे भी पूछ रहा था... " का हाल बा "///.....कहीं....:)

    उत्तर देंहटाएं
  14. चैट करने से तो मैं भी बचती हूँ और आमतौर पर इनविजिबल रहती हूँ. इसलिए ऐसी मुश्किल आज तक नहीं हुयी है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. ठीक लिखा है आपने ... ऐसा अक्सर होता है इसलिए चैट बहुत सोच समझ कर करनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. गूगल बाबा की मेहरबानी सदा बनी रहै!
    --
    कल बाहर था इसलिए इस पोस्ट को नही देख सका!
    --
    आपने बहुत ही उम्दा पास्ट लिखी है!
    --
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    जय माता जी की!

    उत्तर देंहटाएं
  17. ऐसा नहीं कि कभी भी बात की शुरुआत नहीं करनी चाहिए...पर हाँ, टिप्पणियों का आदान-प्रदान हो जाए...उन महोदय/महोदया के व्यक्तित्त्व को अच्छी तरह जान जाएँ, फिर बात शुरू करने में कोई हर्ज़ नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  18. .

    सावधान करते हुए इस लेख के लिए आपका बेहद आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरी भी यही जिज्ञासा है...ऐसा भी होता है ??
    खैर, संपर्क अतिशंक्षिप्त रखना मुझे भी आवश्यक लगता है..

    उत्तर देंहटाएं