बुधवार, 10 नवंबर 2010

ऐसी रही दिवाली ...कुछ तस्वीरें रावण मंडी की भी


त्यौहारी मौसम चल रहा है ...हालाँकि कुछ के लिए बीत चुका ...मगर बिहार, यू पी में छठ करने वालों और राजस्थान में कार्तिक स्नान करने वालों के लिए उत्सव कार्तिक पूर्णिमा तक चलेगा ...गोपाष्टमी , आंवला नवमी , देवउठनी एकादशी , पंचतीर्थ स्नान , कार्तिक पूर्णिमा ...आदि आदि ..।

जयपुर में इस बार दिवाली पर खरीददारी और रौशनी की बड़ी धूम रही ...बरसों बाद अच्छा मानसून , समय पर सरकारी कर्मचारियों को मिले भत्ते ने बाजार की रौनक बढ़ा दी ...हमारा तो कोई विशेष घूमना नहीं हुआ पुराने शहर के बाजार में ...मगर आस-पास के मार्केट में रौशनी का नजारा शानदार था ...जानकारों का कहना है कि जयपुर में इस बार जैसी रौशनी और सजावट पहले कभी नहीं हुई ...

हम तो दिवाली के एक दिन पहले तक साफ़ -सफाई में ही अटके पड़े थे ...मकान के पिछले खुले गलियारे को लोहे की ग्रिल द्वारा बंद करने का कार्य और उसके लिए बुलाये गए कारीगरों की बदौलत ...छोटे से कार्य के लिए 5 दिन तक घर कबाडखाना बना रहा ...और उसपर कारीगरों के नखरे ...समाजसेवा प्रेमी पतिदेव जाने कितने नीड़ों के निर्माण में नक्शा बनाने से लेकर मटेरिअल से लेकर कारीगर, मजदूर तक उपलब्ध कराने में अपनी श्रेष्टता साबित कर चुके हैं , मगर इस बार अपने घर के छोटे से काम में बुरे उलझे ...जो कारीगर/मजदूर दंपत्ति इस कार्य के लिए आये थे , पति बेचारा (और ऑप्शन भी क्या होता है इन लोगों के पास !!) शांत , जितना पूछो उसका जवाब दे दे औरचुपचाप अपना काम कर ले ...मगरउसकी पत्नी ... !
कितनी बार टोक कर उसको चुप रहने के लिए कहना पड़ा ..... पता नहीं उसके पति ने क्या कहा सिर्फ अंदाजा ही लगा सकती हूँ , क्यूंकि उसके पति की तो आवाज़ मुझे सुनायी ही नहीं दी, जो सुनायी दिया वो थी उस महिला कामगार की गालियों की बौछार ...और उसका पति सर झुकाकर चुपचाप सुनता रहा ...सचुमच कुछ अलग -सा अनुभव था । गालियाँ देते पति और चुपचाप सुनती पत्नियाँ तो खूब देखी हैं , मगर ऐसा दृश्य पहली बार ही देखा ....जहा पति चुपचाप अपने काम में लगा रहता , वहां उसकी पत्नी ज्यादा समय उसे निर्देशित करने , गप्पे हांकने या आराम करने में बीतता ...हद तो तब हुई जब उसके निर्देशन का दायरा बढाकर मुझतक और पतिदेव तक पहुँचने लगा ...

दिन में तीन चार बार मजदूरों के लिए चाय बनाने का पति देव का निर्देश मुझे अखरता नहीं है क्यूंकि चाय पीना मुझे भी बहुत पसंद है और वो भी अदरक , कालीमिर्च आदि मसालों के साथ ... मगर ...
उधर से फरमाईश आई , " म्हारी चाय म काली मिर्च मत डाल्जो और चीनी थोड़ी बत्थी " (मेरी चाय में काली मिर्च मत डालना और चीनी थोड़ी ज्यादा )...फरमाईश की ये तो शुरुआत भर थी... दिवाली करीब आती जा रही थी और घर बिखरा पड़ा था ...दो दिन का कार्य 5 दिन में जाकर ख़त्म हुआ और रोज चख चख करते ...खैर जैसे तैसे उसको विदा किया और वार्षिक सफाई की शुरूआत हुई ...

पांच दिन में पूरे घर को साफ़ सुथरा बनाना हमारे जैसे आलसियों के लिए जंग लड़ने जैसा ही तो है ...जैसे तैसे निपटी साफ़ सफाई और मन गयी दिवाली भी ... रूप चतुर्दशी को खुद के रूप की बजाय रसोई का रूप सुधारा जा रहा था, कई नए पकवान बनाने का अरमान धरा रह गया ...बात सिमटकर बेसन की चक्की , नारियल मूंगफली की बर्फी पर ही अटक गयी ...थकान के मारे हाल बुरा अलग था ...
मगर जब पडोसी आंटी जी और अंकलजी से अपने वार्डरोब कलेक्शन की बडाई ,बच्चों और मेहमानों से मिठाई की , भाई दूज के दिन भाई- भाभीओं से खाने की तारीफ़ , और सबसे ऊपर कुछ महिलाओं का ये कहना ," अब आप अच्छे लगने लगे हो "...सुनी तो सब थकान उड़न छू हो गयी ...अब मारवाड़ियों का अच्छा लगना मतलब तो समझ ही गए होंगे ...बरसों से सेहतमंद लोगों के ताने सुनते रहे हैं कि हम तो खाते पीते घर के हैं , आपको खाना नहीं मिलता क्या ... अब हम भी खाते- पीते की श्रेणी में शामिल होने लगे हैं ... ये बात और है कि पतिदेव रोज योगा करने की सलाह देने लगे हैं . गृहिणियों की खुशियाँ कितनी छोटी -छोटी सी ही तो होती हैं ...तो कभी कभार उनके खाने की , घर सँभालने के गुणों की तारीफ़ कर देने में क्या जाता है ...नहीं क्या ...!!!!

दो दिन आलस मिटाने के बाद देखा कि बहुत दिनों से कुछ लिखा नहीं था ब्लॉग पर , दिमाग सुन्न हो जाता है कभी -कभी...यूँ तो खाली ही है, बस थोथे चने की तरह कभी -कभी बज जाता है ...सोचा आज तो कुछ लिखना ही है ...जो लिख दिया है ...झेलिये !

दशहरे पर देवर की बेटी रहने आई दो दिन के लिए तो अपने बड़े पापा से रावण देखने की जिद करती रही ...वो भी एक दो नहीं , 10,50...पड़ोस में ही है एशिया की सबसे बड़ी रावण मंडी .....दिखा लाये पतिदेव भी ...



20 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह .......यह तो बहुत ही अच्‍छा रहा, आपके माध्‍यम से हमें भी मिल गई रावण मंडी देखने के लिये ....सुन्‍दर लेखन के साथ ही प्रकाश पर्व की शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच "बेचारा" के अलावा पति के पास दूसरा ऑप्शन नही है :)

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसिम-किसिम के रावण जी के दर्शन कराने का शुक्रिया। रावण मंडी की ज़्यादा जानकारी अपेक्षित है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...और उसका पति सर झुकाकर चुपचाप सुनता रहा ...
    यह हुड हुड दबंगई प्रकारांतर से आप जैसी नागरी नारियों के लिए थी ...
    सुन्दर चित्र -आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाणीजी
    आपने तो मेरे मन के ही भावो को उकेर दिया मै भी कुछ इसी तरह व्यस्त रही |
    अभी तक तन मन अलसा ही रहे है |इस बीच बहन को के पास भुज जाना हुआ उसके पति के देहांत के बाद की पहली दीवाली का कुछ दुःख -सुख साझा करने |तो वहां पर पति के बीमारी के चलते करीब पांच सालो से उसके घर की हालत भूकम्प की मार झेलते काफी खराब हो गई थी |थोड़ी मरम्मत करवाना तय किया तो वहां देखा की मजदूरों को चाय ,पानी देते देते बहन बीमार हो गई और तो और कच्छ में ज्यदातर घरो में बिसलेरी टैप ही पानी पिया जाता है तो मजदूर भी वही पानी मांगते थे पिने को वो एक अतिरिक्त खर्चा करीब ७० रूपये रोज |
    aur han ravan mandi achhi lgi.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्र है,मुंबई में मजदूरों के साथ उनकी पत्नियां नहीं आतीं :)

    मुझे भी एक किस्सा याद आ गया...महाराष्ट्रियन लोंग खूब मीठी चाय पीते हैं,लिहाज़ा मैं उस मजदूर की चाय में दो चम्मच भर कर चीनी डाल दिया करती थी, तीसरे दिन उसने बहुत हिचकते हुए पहले ही बता दिया कि उसे डायबिटीज़ है. (पर तब भी सोचा..आज भी सोच रही हूँ...इन मेहनतकश मजदूरों को....कैसे हो जाती है यह बीमारी )

    रावण मंडी की सैर बड़ी भली लगी. पता ही नहीं था..ऐसी भी कोई मंडी होती है....बढ़िया जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
  7. रोचक प्रस्तुति ....काफी मेहनत कि त्योहार पर ..रावण मंडी की सैर भी ज़ोरदार रही ... वैसे तो सरे आम रावण घूमते रहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सब्जी मंडी तो सुना था पर ये रावण मंडी जबर्दस्त्त रही .

    उत्तर देंहटाएं
  9. ्बेहद रोचक प्रस्तुति…………रावण मंडी के भी दर्शन हो गये।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिवाली पर बहुत दिलचस्प लेख ।
    रावणों की मंडी तो पहली बार देखी है । आभार इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आजकल तो पूरा देश रावण मंडी बना हुआ है ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. रावण मंडी की जानकारी और दृश्य पहली बार ही जानने और देखने का मौका मिला. मजदूरों के बारे में कुछ न कहिये. वैसे भी घर में काम करने वालियों के रंग ढंग से अंदाजा लगाया जा सकता है कि आप उनसे एक अधिक काम की आशा नहीं कर सकते हैं. अगर पुरुष काम करने वाला है तो वह आपके आदेश को टालेगा नहीं. मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ. मैंने एक मजूर महिला को साड़ी दी कि मैं उसक ओनाहीं पहनती थी. साड़ी लेकर कहती है कि दूसरे रंग क़ी नहीं है. ऐसे रंग क़ी तो पहने ही हैं. यहाँ भी उनको च्वाइसचाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इतने सारे रावण एक साथ। किस स्थान से इसकी समानता दिखती है?

    उत्तर देंहटाएं
  14. तब एक रावण ने ’राम’ को अवतरित कर दिया था, और आज इतने फ़िर रहें है! कहाँ हो राम!

    उत्तर देंहटाएं
  15. रावण मंडी .. गजब के रावण है सब .. चलिए आपके बहाने इस मंदी को भी देख लिया ...

    उत्तर देंहटाएं