रविवार, 3 मार्च 2013

चाँद को देखो जी ....



सर्दियों में खिडकियों से ताक झांकी कर लेने वाला चाँद या  गर्मियों में छत पर टहलते चौदस और पूर्णिमा का चन्द्रमा जाने कितनी बार किस किस तरह मोह लेता है .हलकी बहती ठंडी हवा , दूर तक शांत माहौल और उसपर   धीमी आवाज़ में रेडिओ पर बज रहे , रात का समां  झूमे चन्द्रमा , खोया -खोया चाँद , ये हवा ये रात ये चांदनी जैसे गीतों का सम्मोहन दूर बचपन से लेकर बुढ़ापे की और बढ़ते जस का तस है . मोहक वातावरण की खुमारी में बस ख़ामोशी से सुनते  इन गीतों को ओस की बूंदों सा भीगता मन  अम्बर के  जाने किस रहस्यमय लोक में भ्रमण कर आता है। 


चाँद अपने आप में ख़ास है , नाम में भी  स्त्रीलिंग या पुल्लिंग का भेद नहीं .. शशि , इंदु  है तो  सुधांशु , हिमांशु , मृगांक, मयंक भी . श्रापित हो  शिव के सर चढ़ उन्हें शशिधर बनाता है, स्वयं घटते- बढ़ते संदेसा भी देता है , कुछ भी स्थिर नहीं , ना सुख , ना दुःख ...सुख गया तो दुःख भी जाएगा  ! अँधेरी रातों को जगमग करता एक चन्द्रमा सितारों के घने झुरमुट पर भारी है  बुझे मनों  में भ्रम या आस जो कहे जगाये रखता है , अमावस की रात कितनी लम्बी हो , पूर्णिमा भी होगी ! बदली कितनी घनी हो , फाड़ कर आसमान का सीना झलक दिखला देता है अक्सर! 

किसी प्रिय ने चाँद के हाथों अपने प्रियतम को संदेसा भेजा  , तो कोई बहन भाई की राह तकते चाँद को उसे राह दिखने की फ़रियाद करती है . किसी ने माशूक को कहा चाँद , तो किसी का लाल हो गया उसका चाँद , किसी भूखे पेट बच्चे को रोटी सा नजर आया चाँद , तो किसी का मामा बन गया . कितने गीत लिखे गए , .तस्वीरें ली गयी , चित्र बनाये गए , मगर वह खूबसूरती आंकी ना जा सकी . 

यह तो हुई भावुक दिलों ,संवेदनशील कलम या मन की दास्ताँ . खुश होकर कुछ देर गा ले इंसान " आजकल पाँव जमीन पर नहीं पड़ते मेरे ". कल्पना या खवाबों की उड़ान में बेशुमार विचर  आये मन मगर भावुकता से परे एक कठोर धरातल भी है जिसपर हर इंसान को चाहे /अनचाहे पैर टिकाने ही पड़ते हैं . आखिर तो हम इंसान हैं , पक्षी तो है नहीं कि पर फैलाये आसमानी बादलों को निहारते तो कभी गर्दन झुक कर नीचे पृथ्वी के नदी , झरने ,पहाड़ों को निरखते  मीलों  उड़ते रहो , थक जाओ तो कही किसी पेड , मकान , तारों की छत पर दो मिनट सुस्ता  लिए और फिर वही उन्मुक्त उड़ान .  

चाँद को करीब से देखने की चाहत में विज्ञानं ने भी क्या नहीं किया , बरसों बरस  दूरियां आंकी , अनुमान लगते  गणनाएं कि, जान ले की कितनी दूरी है इस चाँद और हम इंसान के बीच , दूरबीन से न हुआ तो टेलिस्कोप लगा कर देख लिया .और जब देखा तो कितने भरम टूटे होंगे ...

कि  चाँद की धरती तो बड़ी उबड़- खाबड़ है , बड़े गड्ढे हैं वहां ,  चाँद से पृथ्वी को देखे तो वह भी चाँद सी ही नजर आये जिसे पृथचन्दा कहते हैं यानि की इसी अन्तरिक्ष में हमारी धरती भी किसी के लिए चाँद सी है , वह " किसी "  अभी हम सबसे अनजाना है , मगर किस्से कहानियों में जाना- पहचाना भी !

कुछ वैज्ञानिको ने तो यह शोध भी किया कि  यदि चाँद से धरती की  दूरी कम हुई तो धरती पर प्रलय जैसी स्थितियां हो सकती है , माने कि चाँद टंगा  रहे वही  दूर , हम पृथ्वीवासियों के  लिए यही ठीक है .
 चाँद पर पहुंचे एक चंद्रयात्री का अनुभव  तो यही बताता है कि कोई नहीं , पहुंचे चाँद पर तो ठीक था , वहां से देखने वाले दृश्य साफ़गोई से तो न बताते , वह भी तब जब की प्रोग्राम लाईव हो . 

लेखकों /कवियों / कवयित्रियों के लिए तो और भी आवश्यक है की विज्ञानं और विज्ञान की छात्रों /छात्रों की ओर से आँखें मूंदे ही रहे वर्ना चाँद से उनकी तुलना पर क्या न भुगतना पड़  जाए . चाँद से तुलना के खतरे हजार  है .

जाहिर है किसी खगोलशास्त्री को आपने कह  दिया , मुखड़ा चाँद सा है तो वह लट्ठ लेकर ना पीछे पड़  जाए , बन्दे/बंदी  ने टेलिस्कोप से चाँद को बहुत करीब से बार -बार देखा है , आपकी तारीफ़ को जाने क्या समझ ले  .

वर्षों पुरानी पत्नी  (पुरानी तो पत्नी ही होगी न , प्रेमिका तो होने से रही  ) को चाँद कह दिया तो तड से जवाब मिल जाए ," जानती हूँ तुम्हारे इरादे , अब वहीँ आसमान में  टंगे देखना चाहते हो , मैं तुम्हारी यह चाहत पूर्ण नहीं होने दूँगी , यही रहूंगी तुम्हारी छाती पर मूंग दलते ".

कई समझदार टाईप के पति /प्रेमी गा -गा कर कहते नजर आते हैं " चाँद सी महबूबा हो मेरी कब ऐसा मैंने सोचा था  .  सोचो , जो बेचारी भोली -भाली माशूकाओं को असल बात पता चले तो .के,  " जी , सानू चंगी तरह मलुम है साडी इन्नी बढिया  किस्मत कित्थों  हुई " अपणी किस्मत में तो तू ही सी  !!  समझो उनके दर्द को . 

साहित्यकार और कवि के लिए चाँद महबूबा , माशूका , प्रेमिका  कुछ भी हो , कुछ भी कहें मगर  किसी भूखे गरीब को चाँद दिखा दिया तो उसे चाँद में रोटी- सा गोल होने के अतिरिक्त क्या नजर आयेगा ..... 

31 टिप्‍पणियां:

  1. चाँद को देखो
    उसका हर सौन्दर्य मुग्ध करता है
    पर बखिया उधेड़ते तो इंसान ही जैसा बदरंग

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह जी वाह चांद के विविध रंग दिखा दिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब

    मेरी नई रचना
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

    ये कैसी मोहब्बत है

    उत्तर देंहटाएं
  4. चांद का बयोडेटा? कहीं चांदनी में तपिश न उठे… :)

    चांद पर समग्र…

    उत्तर देंहटाएं
  5. वर्षों पुरानी पत्नी (पुरानी तो पत्नी ही होगी न , प्रेमिका तो होने से रही ) को चाँद कह दिया तो तड से जवाब मिल जाए ," जानती हूँ तुम्हारे इरादे , अब वहीँ आसमान में टंगे देखना चाहते हो , मैं तुम्हारी यह चाहत पूर्ण नहीं होने दूँगी , यही रहूंगी तुम्हारी छाती पर मूंग दलते "
    :D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D:D

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात ...
    कौन ऐसा होगा, चाँद ने जिसका मन न मोहा हो
    इसे देख चाहे रईस अपनी प्रेयसी याद करें या कोई गरीब अपनी रोटी
    बढ़िया लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाँद से अपना मोह कैसे छोड़ दें, बचपन में छत पर लेट कर न जाने कितना बतियाया है चाँद से।

    उत्तर देंहटाएं
  8. यही रहूंगी तुम्हारी छाती पर मूंग दलते ".

    हा हा हा......और अगले सात जन्म भी.....हे ! भगवान.......

    अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ....मेरा एक पुराना शेर है :

    उस दागदार चाँद की औक़ात है ही क्या ,
    जो इस हसीन चेहरे के मुक़ाबले में आ जाय ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जय हो ……………हाय ! चाँद ने क्या क्या रंग दिखाये
    जाने कितने आशिकों के अरमानों पर पानी फ़िरवाये :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये तो एक चाँद सौ बीमार हो गया :)
    जो भी हो चाँद तो चाँद है:)कोई अपना सा.

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक दिन न दिखे तो चिंता कि गया कहाँ होगा ..मेरा-तेरा-उसका-हमारा चाँद...

    उत्तर देंहटाएं
  13. उत्तर
    1. जी हाँ , वह चाँद तो रह ही गया जिसको देख कर उम्रदराज महिलाएं व्रत खोलती है , एक उम्र तक आते सबकी चाँद निकल ही आती है :) ..

      हटाएं
  14. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 5/3/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है|

    उत्तर देंहटाएं
  15. ," जानती हूँ तुम्हारे इरादे , अब वहीँ आसमान में टंगे देखना चाहते हो , मैं तुम्हारी यह चाहत पूर्ण नहीं होने दूँगी , यही रहूंगी तुम्हारी छाती पर मूंग दलते ".


    इसीलिये तो रोज लठ्ठ खाते हैं.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह चाँद पर एक प्यारा सा निबन्ध लिख दिया -चन्द्रमा का सम्बन्ध मन से है -यह ऋग्वेद कालीन ऋषियों तक को ज्ञात था -चंद्रमा मनसो जातः!
    चलिए एक चाँद ने दूसरे चान्द को सराहा तो !

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या लिखूं समझ में नहीं आ रहा, अब तो सिर पर चांद उगने के दिन आ गये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैंने पूछा चाँद से, के देखा है कहीं, मेरे यार सा हसीं
    चाँद ने कहा...उल्लू के पठSSS...इतने ऊपर से दिखता है क्या ?
    :):)

    उत्तर देंहटाएं
  19. चाँद पे पूरा पूरा शोध ही लिख डाला आपने ...
    आसमान में टंगे इस चाँद की कल्पना बच्चों से लेकर बड़ों के मन में विविध भाव उठाती है ... रहस्यमय भाव लिए रहती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. chand bhi aapka dhanyawad is poornima ko avshay karega aakhir kisi ne to uskee mahtta jani .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .आभार सौतेली माँ की ही बुराई :सौतेले बाप का जिक्र नहीं आज की मांग यही मोहपाश को छोड़ सही रास्ता दिखाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेचारा चाँद. आपने तो उसके ऊपर इतना कुछ कह दिया और बेचारे चाँद को मालूम ही नहीं... मुझे तो ये पढ़कर हँसी आ रही है- "जाहिर है किसी खगोलशास्त्री को आपने कह दिया , मुखड़ा चाँद सा है तो वह लट्ठ लेकर ना पीछे पड़ जाए , बन्दे/बंदी ने टेलिस्कोप से चाँद को बहुत करीब से बार -बार देखा है , आपकी तारीफ़ को जाने क्या समझ ले" हे हे हे
    मेरे दिमाग में एक विचार आया...एक निश्चित उम्र के बाद पत्नी का मुखड़ा भले ही चाँद सा न रह जाता हो, पति के सिर पर ज़रूर चाँद उग आता है. ही ही ही ही !

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेचारा चंदाबाबू! यूं ही फूलकर कुप्पा हुए जाते हैं। उन्हें रहने दीजिये खामोखयाली में ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपका जीवन एक दम सटीक आकलन
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    तुम मुझ पर ऐतबार करो ।
    पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

    उत्तर देंहटाएं
  24. सभी का मुखड़ा चाँद सा ///////

    उत्तर देंहटाएं
  25. चाँद का विविध वर्णन अच्छा लगा ।कितनी मान्यताये टूटेगी ,टूट गई है पर चाँद तो चाँद है मुझे नाम ही आकर्षित करता है ।
    हम जिस कालोनी में रहते थे वहां चार फ्लैट थे उनमे रहने वाले मालिको में तिन लोग उपर से चाँद थे तो हमारे सरे परिचितों ने
    हमारे सेक्टर को "चाँद महल "नाम दे रखा था

    उत्तर देंहटाएं
  26. कभी हम चांद को देखते है,कभी वह हमे खिड्कियो के रास्ते ढुंढता है...।अच्छा समेटा है चांद को आपने यहॉ..वाणी जी..

    उत्तर देंहटाएं