गुरुवार, 16 जुलाई 2009

समंदर इतना खारा क्यों है ??
एक छोटी लड़की जब कभी ख़ुद को तनहा उदास महसूस करती ...घर से सटे बागीचे के कोने में जा बैठती ...की..उसकी आँखों में छिपा समन्दर उसके सामने लहलहा उठता ...दोनों कोहनियों पर सर झुकाए ...समंदर की लहरे ऊँची उठकर कभी उसकी लटों से खेलती ...कि कभी उसके कदमों के तले सरसराहट करते निकल जाती ...छोटी लड़की का विषाद घुलता जाता ...वह मुस्कुराने लगती ..समंदर भी उसे मुस्कुराता देख और हिलोरें खाता और उसकी लहरे जैसे नृत्य करते उसे अपनी फुहारों से भिगो देती ...एक दिन उसकी लहरों कि कुछ बूँदें उसके मुख में खराश भर गयी...लड़की नाराज हो गयी...रूठकर समन्दर के किनारे पड़ी ऊँची शिलाओं पर जा बैठी...समंदर इतना खारा क्यों है....?? समंदर कुछ न कहता ...बस अपनी अठखेलिया करता रहता ...शिलाओं के किनारे ही टकराकर लहरों को लौट जाते देख ...समंदर की बेबसी पर वह छोटी लड़की तालिया बजाकर खूब हंसती...!!
एक दिन फिर वह छोटी लड़की इसी तरह अपनी उदासिओं में गुम समंदर के किनारे आ बैठी ...आज तो समंदर इतना शांत था...कोई लहर उठकर नही आयी उसे भिगोने ...छोटी लड़की ख़ुद को और तनहा महसूस करने लगी ...आँखें भर ना आए कहीं ...पलकों को भींचे बैठी रही ....तभी कुछ खारा सा स्वाद उसके लबों से पर जा ठहरा ...यह तो समन्दर सा खारा ही है ...ऑंखें खोला तो देखा ...उसकी आँखों से आँसू झरकर मुख पर बिखर रहे थे ...मुस्कुरा उठी वह....आज जान चुकी थी.... समंदर इतना खारा क्यों है ...??
आज सभी ने समंदर के खारेपन का यह राज़ जान लिया है ...
समंदर ने कितनों के आंसुओं को ख़ुद में जो छिपा लिया है ....!!

14 टिप्‍पणियां:

  1. आशीषजी की धमकियों का ऐसा असर !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह तो भावनात्मक स्तर की पोस्ट है; पर वैज्ञानिक रूप से भी अगर समुद अपने खारे पन में ०.००००१% अन्तर कर ले जो जैव विविधता का जबरदस्त विनाश हो जायेगा!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वह छोटी लड़की इसी तरह अस्तित्व के कई गहनतम रहस्य अनावृत करती जायेगी । आभार ।

    अभी केवल हाजिरी दे रहा हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आंख के आंसुओं और समंदर के पानी की तुलना करते हुये, बहुत ही सुंदर मनोभावों का तानाबाना बुनते हुये, आप अपने भावों को बहुत ही सशक्त तरीके से व्यक्त कर पायी हैं. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज सभी ने समंदर के खारेपन का यह राज़ जान लिया है ...
    समंदर ने कितनों के आंसुओं को ख़ुद में जो छिपा लिया है ....!!

    इसीलिये तो सागर की गहराई और उसकी विशालता के आगे सिर झुक जाता है कविहृदय मनीषियों का कि वह सदियों से सबकी पीड़ा को अपने अंतर में इसी तरह संजोये पछाडें खा रहा है और किसीको अहसास भी नहीं होता ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज सभी ने समंदर के खारेपन का यह राज़ जान लिया है ...
    समंदर ने कितनों के आंसुओं को ख़ुद में जो छिपा लिया है ....!!


    मर्मस्पर्शी लेखन ...
    समुद्र के पानी और आसुओं की जिस तरह से तुलना की है ...मन को छू गयी ...!!
    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. samundar ke kharepan ka astitva ka raz yunhi khol diyaa aapne to...
    bahut hi maarmik lekh...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सागर से आपकी सहानुभूति अच्छी लगी।
    अपना एक शेर याद आ रहा है यहां देना चाहता हूं-
    लोग आंसुओं के दरिया बहा दिए
    सब पी गया तभी तो सागर हूं मैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर । हाँ सच है ।इसीलिए वह कखारा होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तो समंदर ऐसे बना !!
    बहुत प्यारा :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. समुन्दर कि थाह पाना आसान नहीं कितु राज जान लिया है खारे पन का. अति सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं