मंगलवार, 23 नवंबर 2010

क्या यह सिर्फ घर और उसकी सफाई की ही बात है ....!

(इनकी सफाई ऐसी होती है)
( सफाई का महत्व तो ये छुटकू भी जानते हैं )


एक सफाई पसंद महिला अपनी सहेली के घर उससे मिलने गयी । जब उसने देखा कि उसकी सहेली का पूरा घर अस्तव्यस्त पड़ा था , नाक भौं सिकोड़ती देर तक बस उससे यही शिकायत करती रही कि लोंग घर कितना गन्दा रखते हैं !!
दरअसल उसके घर वार्षिक सफाई का कार्य चल रहा था . सफाई करते समय एक बार पूरा घर गन्दा होता ही है . उस महिला को बुरा लगा , मगर अपने घर की व्यवस्था देखकर चुप लगा गयी .
कुछ समय बाद जब उसका घर फिर से साफ़ सुथरा चमकदार हो गया , उसने अपनी सहेली को खाने पर बुलाया .  खाना खाने के बाद सहेली के चमचमाते घर को देखकर बहुत प्रभावित हुई .

" तुम आजकल घर बहुत साफ़ रखने वाली हो , कोई नयी कामवाली रख ली है क्या "

  नहीं ..मेरे घर की साफ़- सफाई के लिए मैं दूसरों पर निर्भर नहीं करती ...उस दिन जब तुम आई थी , वार्षिक सफाई का काम चल रहा था इसलिए सब बिखरा हुआ था  . उस महिला ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया

" तो तुमने उस दिन कुछ कहा क्यों नहीं , तुमने बताया भी नहीं और मैं यूँ ही बक- बक करती रही "

 उस दिन मैं चुप रही क्यूंकि तुम उस दिन सही थी ...उस दिन का सच वही था!

दोनों ने एक साथ अच्छा समय व्यतीत किया . घर लौट कर उस महिला ने अपने घर का मुआइना किया . उस महिला की तुलना में उसे अपना घर बहुत गन्दा लग रहा था । घर के कई कोने , सिंक के नीचे , फर्नीचर के पीछे कई जगह कचरा छिपा पड़ा था . . इससे पहले उसने कभी गौर ही नहीं किया था .

उस दिन से उसने प्रण लिया कि अगली बार दूसरों की त्रुटियों पर टोकने से पहले स्वयं पर अंकुश रखेगी , कम से कम उस उस कमी पर तो अवश्य ही, जो स्वयं उसमे भी है!

होता है ना कई बार ऐसा ....!

क्या यह सिर्फ घर और उसकी सफाई की ही बात है ....!



चित्र गूगल से साभार !

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सही कहा आपने। दूसरों के दोष न देख, अपने अन्‍दर के दोष देखने पर हम निर्दोष बन जायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे वाह इस छोटकू ने भी झाडू उठा लिया है. सार्थक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी पोस्ट है. दोनों चित्र भी अच्छी हैं. ऊपर वाला चित्र देखकर याद आ गया कि कभी-कभी मंत्री-सांसद अस्पताल वगैरह में झाड़ू लगाने की नौटंकी करते हैं. एक ही छोटे से कोने में पच्चीस लोग झाड़ू लगाकर फोटो खिंचवा लेते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...उस दिन का सच वही था ...
    समझने की बात है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन की सफाई हो जाये तो सब उजला ही रहेगा। सुन्दर प्रसंग है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. .

    सार्थक लेख के लिए बधाई !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप उदाहरण दे कर कहना कुछ और चाह रही हैं ...हमें अपने दोष नहीं दिखाई देते दूसरों की कमियों पर ही उंगली उठती है ....
    सार्थक लेख के लिए आभार ...सच है पहले अपने गिरेबान में झाँक लेना चाहिए ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही आईना दिखाया जी मुझे, धन्यवाद
    अब कोशिश रहेगी कि अपना घर, ब्लॉग और दिल-दिमाग साफ रखूंगा।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी कभी सफाई प्रारम्भ करते समय घर और गन्दा लगने लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक दोहा याद आ गया ..
    " बुरा जो देखन मैं चला ,बुरा न मिल्यो कोई.
    जो दिल खोजो आपनो मुझ सा बुरा न होई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. असल में स्‍वयं को देखने के लिए आईना चाहिए और दूसरे तो सामने दिख ही जाते हैं। इसलिए आती है यह सारी समस्‍याएं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक सुंदर और छोते से दृष्टांत से आपने जीवन का कितना कीमती सच भी कह दिया और सीख दे दी, बहुत सुंदर लगी यह पोस्ट. प्रणाम.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. भूल सुधार"

    छोते = छोटे

    प्रणाम.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अत्म्विश्लेष्ण कर अपनी खामियों से बहुत कुछ सिखा जा सकता है ऐसा ही कुछ कहती है आपकी सार्थक पोस्ट |

    उत्तर देंहटाएं
  15. wow ! great post...
    waise mai apna room saaf rakhti hoon, ma'am.
    kabhi kabhi time nahi milta to mumma karti hain na.. :p
    well, story moral samajh liya maine.. :)

    उत्तर देंहटाएं