गुरुवार, 11 अगस्त 2011

रक्षा बंधन की बहुत शुभकामनायें ...

रक्षा बंधन भाई -बहन के निश्छल प्रेम का अनूठा त्यौहार है. सूनी कलाईयां और राखियाँ एक दूसरे की बाट जोहती हैं . इस पर्व को मनाये जाने की अनगिनत कहानियां हैं .
कहते हैं कि सर्वप्रथम शिशुपाल के वध के समय कृष्ण की अँगुलियों से बहे रक्त को रोकने के लिए द्रौपदी ने अपने चीर का एक टुकड़ा फाड़ कर कृष्ण को बाँध दिया था. उसी दिन श्रावण पूर्णिमा होने के कारण यह दिन रक्षाबंधन के पर्व के रूप में मनाया जाने लगा . वहीं इतिहास में रानी कर्णवती द्वारा मुग़ल शासक हुमायूँ को राखी बांधे जाने का जिक्र भी है . सिकंदर की पत्नी ने अपने पति के शत्रु राजा पुरु को राखी बाँध कर सिकंदर को युद्ध में ना मारने का वचन लिया था .
राखी सिर्फ भाई ही नहीं देवमूर्तियों, वृक्षों , पंडितों द्वारा यजमानों को भी बांधी जाती है. राजस्थान में राखियाँ सिर्फ भाइयो को ही नहीं अपितु भाभी को भी विशेष लटकन वाली राखी " लुम्बा " बांधी जाती है .
राखी के अवसर पर राजस्थान के देवड़ा ग्राम का जिक्र ज़रूरी हो जाता है . जैसलमेर गाँव में एक पूरी सदी लड़कों की कलाईयां सूनी ही रही .ठाकुर बहुल इस ग्राम में बार -बार के आक्रमणों से व्यथित होकर लड़कियों को जन्म लेते ही मार देने की परंपरा थी . सदियों तक राखी के पर्व के नाम पर सिर्फ ब्राहमणों द्वारा ही पुरुषों के हाथ पर राखी बांधी जाती थी . शिक्षा और सामाजिक जागरूकता ने अलख जगाई और अब हर घर में लड़कियों की किलकारी और भाई की कलाई पर राखी है .
माँ जसोदा ने भी बांधी थी राखी . सूरदास ने गाया ...

राखी बांधत जसोदा मैया ।
विविध सिंगार किये पटभूषण, पुनि पुनि लेत बलैया ॥
हाथन लीये थार मुदित मन, कुमकुम अक्षत मांझ धरैया।
तिलक करत आरती उतारत अति हरख हरख मन भैया ॥
बदन चूमि चुचकारत अतिहि भरि भरि धरे पकवान मिठैया ।
नाना भांत भोग आगे धर, कहत लेहु दोउ मैया॥
नरनारी सब आय मिली तहां निरखत नंद ललैया ।
सूरदास गिरिधर चिर जीयो गोकुल बजत बधैया ॥ (साभार कविता कोष )


मेरी राखी आभासी दुनिया के उस विशेष भाई के लिए जिसने कभी सार्वजनिक रूप से मुझे दीदी या बहन नहीं कहा , मगर एक दिन उसने मुझे एहसास दिलाया कि जब पहली बार मैंने उसे अनुज कहा , तब से वो मेरा भाई ही है ...

सीमा पर कठिन परिस्थितयों में भी हौसले और उमंग के साथ देश की रक्षा का ज़ज्बा लिए हर सैनिक भाई की सूनी कलाई के लिए भी....




चित्र गूगल से साभार ...

24 टिप्‍पणियां:

  1. पोस्ट की आत्मीयता भावभीनी है।

    शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको और आपके भाई को श्रावणी पर्व की शुभकामनायें! जैसे देवडा ग्राम में खुशियाँ लौटीं, वैसे ही सब जगह उनका साम्राज्य हो, इसी कामना के साथ,
    अनुराग.

    उत्तर देंहटाएं
  3. श्रावणी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. रक्षाबंधन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति इस स्‍ने‍हिल पर्व की ढेर सारी बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. रक्षाबंधन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हार्दिक शुभकामनाएं रक्षाबंधन की।

    सादर
    अविनाश

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यारी सी पोस्ट
    राखी की शुभकामनाएं ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आख्यानों से पूरित बहुत बढ़िया पोस्ट पढ़ने को मिली!
    रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस स्नेहिल पर्व पर उम्दा स्नेहिल पोस्ट, रक्षाबंधन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद खूबसूरत और बेहद मानीखेज इस पर्व के लिए मेरी अशेष अनंत सुमंगलकामनायें स्वीकारियेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  12. रानी कर्मावती के देश में पवित्र धागे का बंधन ,सबसे मजबूत बंधन . आपको रक्षाबंधन की शुभकामनाये .

    उत्तर देंहटाएं
  13. पावन पर्व का संदेश सही मायनों में हम सभी अंगीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत प्यारी सी पोस्ट....... शुभकामनायें आपको भी....

    उत्तर देंहटाएं
  15. रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  16. रक्षा बंधन की सादर शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर भावो को संजोया है।
    आपको भी रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपको भी रक्षाबंधन की बहुत बहुत शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  19. मानों तो मैं गंगा मां हूं, न मानो तो बहता पानी...

    हमारा देश दुनिया में इसी लिए अलग स्थान रखता है क्योंकि यहां बचपन से ही हमें रिश्तों की कद्र करना सिखाया जाता है...लेकिन दुनिया सिमट रही है तो हमारे मेट्रो शहरों में भी लोग मैट्रीलिस्टिक होते जा रहे हैं...ऐसा भी देखा गया है कि बचपन में एक दूसरे पर जान छिड़कने वाले भाई-भाई या भाई-बहन या बहन-बहन बड़े हो जाने पर पुश्तैनी संपत्ति के विवाद के चलते एक दूसरे का मुंह तक देखना छोड़ देते हैं...

    भावनाओं की ये बातें भावनाओं वाले ही जान सकते हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं