गुरुवार, 20 मई 2010

विश्व की सबसे कडवी और मीठी वस्तु एक ही है .....क्या ...??





लगभग दो हज़ार वर्ष पूर्व की बात है । यूनान का एक सम्राट रोम की यात्रा पर था। अपने मित्र राजा के घर उसका संध्या का भोजन निश्चित चुका था । यूनानी सम्राट ने ने अपने मित्र से दुनिया की सबसे मीठी चीज़ परोसने का अनुरोध किया था ।

शाम को जब राजा में महल में भोजन परोसा जा रहा था तो यूनानी मेहमान को जिज्ञासा थी यह जानने की आखिर दुनिया की सबसे मीठी कौन सी चीज़ परोसी गयी है । भोजन की मेज विविध पकवानों से सजी थी। मेज के बीचो बीच एक लाल मखमली कपडे से ढकी एक प्लेट थी ।

राजा ने यूनानी मित्र से मखमली कपडे को हटाने का अनुरोध करते हुए कहा " देख लो मित्र , यह है दुनिया की सबसे मीठी चीज । प्लेट में रखी चीज को देखकर राजा हतप्रभ रह गया । वह एक जुबान थी
राजा
ने कहा ," माना कि यह पशु की कटी जुबान है , मगर प्रतीक एक रूप में इसने अपना उपयोग सिद्ध कर दिया है । मित्र , जबान की मिठास ह्रदय व मस्तिष्क को छू जाती है था इससे अधिक मीठा कुछ नहीं हो सकता ।"

यूनानी सम्राट राजा की बात से सहमत होता हुआ मानव वाणी की महता एवं अभूतपूर्व शक्ति के बारे में सोचता रहा।

भोजन समाप्त होने के बाद यूनानी सम्राट ने अपने मित्र और मेजबान रोमान राजा से अनुरोध किया । " मित्र, मैं कल पुनः भोजन का आमंत्रण चाहता हूँ और आपसे विश्व की सबसे कडवी वस्तु परोसने का आग्रह करता हूँ "

रोमन राजा ने उसके यह बात मान ली । दूसरे दिन शाम को फिर वही दृश्य था । अनगिनत सुस्वादु पकवानों से सजी मेज पर बीचोबीच नीले रंग के मखमल से ढकी वस्तु रखी थी । राजा ने यूनानी मित्र से प्लेट से मखमली कपडा हटाने का अनुरोध करते हुए कहा ," यह लो मित्र , दुनिया की सबसे कडवी चीज " यूनानी सम्राट ने कपडा हटाया तो फिर प्लेट में फिर से कटी जबान को देखकर आश्चर्यचकित रह गया । उसने राजा से पूछा ," यह दुनिया की सबसे कडवी चीज भी कैसे हुई "??

राजा का जवाब था , " हाँ मित्र , यही सच है । विश्व की सबसे मीठी चीज भी जबान थी और सबसे कडवी चीज भी जबान ही है मीठी जबान ह्रदय और मस्तिष्क को तृप्त करती है तो यही जबान कडवी होकर हृदय और मस्तिष्क को जबरदस्त आघात भी पहुंचा सकती है . अतः इसका उपयोग करने में सावधानी बरतनी चाहिए "

यूनानी सम्राट अपने रोमन राजा मित्र की समझदारी और व्यवहारकुशलता से मुग्ध हुआ




हमारे जीवन में अपने दृष्टिकोण और चिंतन को सुन्दर व सकारात्मक बनाने की सबसे अधिक आवश्यकता है । वाणी तो मन व मस्तिष्क के अधीन है ।
हम
दूसरों के गुण देखें , कमियां नहींस्थितियों और पैर्स्थितियों में अच्छाई देखें , बुराई नहींआशावादी बने , निराशावादी नहींधैर्य रखे और अनावश्यक क्रोध ना करे तो जीवन सहज और सरल हो सकेगा

अच्छा सोचें , अच्छा बोले , सुन्दर कल्पनाएँ करें , उठें , उडान भरें , चहकें , गुनगुनाएं , मुस्कुराएँ और आनद का विस्तार करें......जीवन की यही सार्थकता है



संकलित
चित्र गूगल से साभार ....

33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा प्रेरक प्रसंग.. सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया गया..

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रात प्रवचन के लिए आभार -
    रहिमन जिह्वा बावरी कह गयी सरग पताल
    आपुन तो भीतर गयी जूता खाय कपार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद विचारणीय प्रसंग..सच्चाई यहीं है की प्रेम के २ शब्द ही है जो लोगों को एक दूसरे के करीब लाते है है और यहीं बोल ही बीच में दरार खड़े कर देते है...इसी लिए कहा गया है मीठा बोलो...बढ़िया प्रसंग...

    उत्तर देंहटाएं
  4. लेकिन इनसान है कि मानता नहीं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर दृष्टांत दिया आपने. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्कूल मे पढ़ा था, "बातहिं हाथी पाइये बातहिं हाथी पांव" । बिल्कुल ठीक दृष्टांत दिया है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दी...... उपदेशात्मक पोस्ट....


    VEry Good.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इसमें क्या शक.....!!
    सबसे मीठी भी 'वाणी' है ..और सबसे कड़वी भी 'वाणी' ही....:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अदा जी से सहमत ;)
    सीख बहुत अच्छी है लेकिन कभी कभी चिल्लाना गरियाना परमावश्यक हो जाता है।
    सोच से सम्बन्धित सीख देनी होती तो राजा 'कटा हुआ सिर' रखवाता। बड़े ठरकी होते थे ये राजा लोग! :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. On a lighter note..

    Once my husband was preaching me..

    "Itni meethi bhi na bano ki koi gulaabjamun ki tarah nigal jaye aur itni kadwi bhi na bano ki koi thook de"

    Since then i started adding lemon to give it a different flavor while talking with hubby as husbands do not have sweet or bitter tongue, they have a very diplomatic tongue.

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रेरक प्रसंग...

    ऐसी बानी बोलिए , मन का आपा खोये
    औरन को शीतल करे आपहु शीतल होए..

    उत्तर देंहटाएं
  12. असली मीनाकुमारी की रचनाएं अवश्य बांचे
    फिल्म अभिनेत्री मीनाकुमारी बहुत अच्छा लिखती थी. कभी आपको वक्त लगे तो असली मीनाकुमारी की शायरी अवश्य बांचे. इधर इन दिनों जो कचरा परोसा जा रहा है उससे थोड़ी राहत मिलगी. मीनाकुमारी की शायरी नामक किताब को गुलजार ने संपादित किया है और इसके कई संस्करण निकल चुके हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ Zeal

    ofcourse ...lemon adds the taste ....n what about black peeper ....sometimes i add it 2....:):)

    उत्तर देंहटाएं
  14. @ अदाजी और गिरिजेश जी ,
    मैं भी सहमत हूँ ....:):):)
    मेरे अलावा और भी कुछ लोग सहमत है आप दोनों से ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. रहिमन जिव्हा बावरी ,कह गयी सरग पताल /
    आपु तो कह भीतर गयी, जूती खात कपाल//

    उत्तर देंहटाएं
  16. बिलकुल सही कहा, पंजाबी मै कहते है कि यही जुबान जुतिया खिलाये, यही जुबान लाड लडाये, आप से सहमत है जी

    उत्तर देंहटाएं
  17. purnataya sahmat.........:)

    iss juban ke karan hi sab kuchh ho jata hai.......koi paraya apna to koi apna paraya ho jata ha...:)

    उत्तर देंहटाएं
  18. lol Vani...so true..

    chit-chat and black pepper...wow

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह वाह क्या बात है..बड़े अनमोल वचन सुना गयी...साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. लेकिन 'कटु-सत्य' का क्या होगा ?
    इसे जुबान का कडुवापा कहेंगे या मिठापा ?
    कडुवापन ( और मीठापन भी ) सिर्फ बोलनेवाले पर ही न निर्भर कर सुनने वाले पर भी निर्भर करता है !
    सुनने वाला अपने बुद्धि के रिक्टर पैमाने पर कडुवेपन की तीव्रता रेखा कहाँ खींचता है , यह
    भी विचारणीय है !
    व्यक्ति के समक्ष सदैव यह प्रश्न रहा है - जुबान में निहित मनोहर तत्व बेहतर या हितकारी
    तत्व ! यह सूक्ति भी कुछ कहती है ---
    '' हितं मनोहारि च दुर्लभं वचः ''
    ========
    पूर्वोक्त टीपों को देखकर यही लगा कि अब तक की टीपीय-यात्रा =
    जुबान से 'वाणी' तक - :)
    ========
    सुन्दर प्रविष्टि ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह अतिसुन्दर लाजवाब...
    "ऐसी वाणी बोलिए मन का आपा खोय..... " को प्रमाणित करती रोचक प्रेरक प्रसंग....
    बड़ा सुखद लगा पढना...

    उत्तर देंहटाएं